गुरुवार, 19 जून 2014

शायरी -जिन्दगी जीने का एक अंदाज ये भी है

जिन्दगी जीने का एक अंदाज ये भी है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें