गुरुवार, 3 जुलाई 2014

shayriशायरी - इश्क -काले पन्ने पर लिखी एक इबारत है


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें