शनिवार, 13 सितंबर 2014

जिन्दगी या जहर

आप की जिन्दगी है ,आप के पास शराब के रूप में जहर भी है ,आपकी मर्जी भी है ,आप इस जहर को पी भी रहे है
तो मै कोन होता हु आपको इस जहर को पीने से रोकने वाला ...:(

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें