रविवार, 9 नवंबर 2014

शायरी अमित जैन की 10/11/14

जितना पुराना
ठुकराया आशिक ,
उतनी लम्बी शायरी .

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें