रविवार, 9 नवंबर 2014

शायरी अमित जैन की

नजरो का धोका हुआ हर बार
जिसे हम प्यार समझे ,
वो निकला हर बार इंकार....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें