बुधवार, 22 अप्रैल 2015

शायरी अमित जैन 22/4/15

एक सवाल था ,
एक जवाब है ,
पढो दोनों को ,
देखो क्या लाजवाब है ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें